Categories
Hindu Spirituality Immortal Sanskrit Literature & Scriptures Sacred Chants of India

स्वस्तिवाचन : आ नो भद्राः क्रतवो यन्तु विश्वतोऽदब्धासो अपरितासउद्भिदः Swastivachan (Peace Chants) From India’s Sacred Scripture Rig-Veda, & Other Vedic Chants

Spread India's Glorious Cultural & Spiritual Heritage

ॐ श्री गुरुभ्यो नमः ॐ श्री शिवानन्दाय नमः ॐ श्री चिदानन्दाय नमः

ॐ श्री दुर्गायै नमः 

Experience India & its Glorious Art, Culture & Spirituality

Swasti Vachan Mantra from Rig Veda, one of the most sacred literature of Hinduism, with translation in English & Hindi :

It has been an ancient tradition of our country that whenever we start a work, we wish for welfare, well-being & auspiciousness at that time, and first pray to the most auspicious God Ganesha. For this, two names immediately flashes on our mental screen… first is Shree Ganesha and the second is Jai Ganesha.

Shri Ganesha means that we are starting the work. And Jai Ganesha means the work is now ending here.

स्वस्तिवाचन | Swastivachan

स्वस्तिवाचन YouTube Video By Challakere Brothers ⇓⇓

Aa No Bhadrah Sooktam By Challakere Brothers – YouTube

Image result for challakere brothers
Challakere Brothers

From very ancient times, the recitation of the hymns in the Immortal Vedas, lead to supernatural Divine power, turning the mind extremely peaceful, tranquil & serene. At the beginning of any auspicious work like wedding, Shagun, Tilak etc, Swasthivaachan from the Holy Vedas is chanted with utmost devotion, or whenever we undertake any auspicious work, there has been a tradition of chanting Vedic Swastivachan. This is a deep science that needs to be understood.

If we just use the auspicious Manglik words without knowing its meaning, then surely it will be considered our utter superstition. I believe that unless we understand religion and the Science behind it, there is no justification in blindly obeying all these things. Our religion, our culture, Vedic hymns, Vedic Mantras, Puranaas, Upanishads etc. all have a very Big & Deep Science behind them.

The Vedic rites and Puranas that our enlightened Sages of ancient India had imagined & visualised, and then made arrangements for auspicious Manglik rituals in a systematic manner, are in no way different from our Science. Every initiative the immortal Sages of ancient India had undertaken and visualised during their sacred hours of communion with the Divine, had always been with the Science.

स्वस्तिवाचन (स्वस्तयन) मन्त्र और अर्थ ( From Rig Veda ) : Hindi Translation

Lakshmi Ganesh Puja,Online Laxmi Ganesha Puja for Wealth & Prosperity,Book  Lakshmi Ganesha Pooja Yagya

हमारे देश की यह प्राचीन परंपरा रही है कि जब कभी भी हम कोई कार्य प्रारंभ करते है, तो उस समय मंगल की कामना करते है और सबसे पहले मंगल मूर्ति गणेश की प्रार्थना करते है। इसके लिए दो नाम हमारे सामने आते हैं… पहला श्रीगणेश और दूसरा जय गणेश।

श्रीगणेश का अर्थ होता है कि जब हम किसी कार्य को आरंभ करते है तो इसी नाम के साथ उस कार्य की शुरुआत करते है। जय गणेश का अर्थ होता है कि अब यह कार्य यहां समाप्त हो रहा है। प्राचीनकाल से ही वैदिक मंत्रों में जितनी ऋचाएं आई है,उनके चिन्तन, वाचन से अलौकिक दिव्य शक्ति की प्राप्ति होती है, मन शान्त होता है। किसी भी शुभ कार्य के प्रारम्भ में, विवाह मण्डप पर , शगुन और तिलक में भी इसकी प्रथा है, या फिर जब कभी भी हम कोई मांगलिक कार्य करते है तो स्वस्तिवाचन की परंपरा रही है। यह एक गहरा विज्ञान है, जिसे समझने की आवश्यकता है।
 
यदि हम केवल मंगल वचन का प्रयोग करे और मांगलिक शब्दों का प्रयोग उसके अर्थ को बगैर जाने हुए करे तो निश्चय ही यह हमारा अंधविश्वास माना जाएगा। मेरा मानना है कि जब तक धर्म को तथा उसके विज्ञान को हम समझ न लें, तब तक केवल अंधविश्वासी होकर उसकी सभी बातों को मानने का कोई औचित्य नहीं है। हमारा धर्म, हमारी संस्कृति,वैदिक ऋचाएं, वैदिक मंत्र, पुराण उपनिषद आदि इन सभी ग्रन्थों के पीछे एक बहुत बड़ा विज्ञान है। हमारे ऋषियों ने जिन वैदिक ऋचाओं और पुराणों की कल्पना की, उपनिषदों के बारे में सोचा था फिर मांगलिक कार्यो के लिए जैसी व्यवस्था की, वह हमारे विज्ञान से किसी भी तरह से अलग नहीं है। उनके द्वारा सोची और की जाने वाली हर एक पहल हमेशा से ही विज्ञान के साथ रही है I
 
स्वस्तिक मंत्र ! शुभ और शांति के लिए इस मंत्र का प्रयोग करें
स्वस्तिवाचन मंत्र एवं भाषांतर :  Swasti Vachan Mantra with translation

शान्ति-पाठ से शरीर सब प्रकार से शुद्ध हो जाता है तथा अकल्याण और अशुभ दूर हो जाता है। 

मन्त्र-१ 

आ नो भद्राः क्रतवो यन्तु विश्वतोऽदब्धासो अपरीतास उद्भिदः।   
देवा नोयथा सदमिद् वृधे असन्नप्रायुवो रक्षितारो दिवेदिवे॥ 
 
अर्थ – हमारे पास चारों ओर से ऐंसे कल्याणकारी विचार आते रहें जो किसी से न दबें, उन्हें कहीं से बाधित न किया जा सके एवं अज्ञात विषयों को प्रकट करने वाले हों। प्रगति को न रोकने वाले और सदैव रक्षा में तत्पर देवता प्रतिदिन हमारी वृद्धि के लिए तत्पर रहें। 

Mantra Translation – May powers auspicious come to us from every side, never deceived, unhindered, and victorious. That the Gods ever may be with us for our gain, our guardians day by day unceasing in their care. 

मन्त्र-२

देवानां भद्रा सुमतिर्ऋजूयतां देवानां रातिरभि नो नि वर्तताम्।  
देवानां सख्यमुप सेदिमा वयं देवा न आयुः प्र तिरन्तु जीवसे ॥
अर्थ – यजमान की इच्छा रखनेवाले देवताओं की कल्याणकारिणी श्रेष्ठ बुद्धि सदा हमारे सम्मुख रहे, देवताओं का दान हमें प्राप्त हो, हम देवताओं की मित्रता प्राप्त करें, देवता हमारी आयु को जीने के निमित्त बढ़ायें। 

Mantra Translation – May the auspicious favour of the Gods be ours, on us descend the bounty of the righteous Gods. The friendship of the Gods have we devoutly sought, so may the Gods extend our life that we may live. 

मन्त्र-३

तान् पूर्वयानिविदाहूमहे वयंभगं मित्रमदितिं दक्षमस्रिधम्।
अर्यमणंवरुणंसोममश्विना सरस्वती नः सुभगा मयस्करत्।।
अर्थ – हम वेदरुप सनातन वाणी के द्वारा अच्युतरुप भग, मित्र, अदिति, प्रजापति, अर्यमण, वरुण, चन्द्रमा और अश्विनीकुमारों का आवाहन करते हैं। ऐश्वर्यमयी सरस्वती महावाणी हमें सब प्रकार का सुख प्रदान करें। 

Mantra Translation – We call them hither with a hymn of olden time, Bhaga, the friendly Daksha, Mitra, Aditi, Aryaman, Varuna, Soma, the Ashvins. May Saraswati, auspicious, grant felicity. 

मन्त्र-४

तन्नो वातो मयोभु वातु भेषजं तन्माता पृथिवी तत् पिता द्यौः। 
तद् ग्रावाणः सोमसुतो मयोभुवस्तदश्विना शृणुतं धिष्ण्या युवम् ॥
अर्थ – वायुदेवता हमें सुखकारी औषधियाँ प्राप्त करायें। माता पृथ्वी और पिता स्वर्ग भी हमें सुखकारी औषधियाँ प्रदान करें। सोम का अभिषव करने वाले सुखदाता ग्रावा उस औषधरुप अदृष्ट को प्रकट करें। हे अश्विनी-कुमारो! आप दोनों सबके आधार हैं, हमारी प्रार्थना सुनिये। 

Mantra Translation – May Vayu waft to us the felicitous medicament, May Mother Earth, Father Heaven, bring it; May the felicitous Stones distilling Soma secure it. May ye Ashvins with understanding hearken to our prayers. 

मन्त्र-५

तमीशानं जगतस्तस्थुषस्पतिं धियंजिन्वमवसे हूमहे वयम्। 
पूषा नो यथा वेदसामसद् वृधे रक्षिता पायुरदब्धः स्वस्तये॥
अर्थ – हम स्थावर-जंगम के स्वामी, बुद्धि को सन्तोष देनेवाले रुद्रदेवता का रक्षा के निमित्त आवाहन करते हैं। वैदिक ज्ञान एवं धन की रक्षा करने वाले, पुत्र आदि के पालक, अविनाशी पुष्टि-कर्ता देवता हमारी वृद्धि और कल्याण के निमित्त हों। 

Mantra Translation – We worship Him, the Lord of the universe of the inanimate and animate creation, for, He is the blesser of our intellect and our protector. He dispenses life and good among all. Him do we worship, for as He is our preserver and benefactor, so is He our way to bliss and happiness also. 

मन्त्र-६

स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः। 
स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॥
अर्थ – महती कीर्ति वाले ऐश्वर्यशाली इन्द्र हमारा कल्याण करें, जिसको संसार का विज्ञान और जिसका सब पदार्थों में स्मरण है, सबके पोषणकर्ता वे पूषा (सूर्य) हमारा कल्याण करें। जिनकी चक्रधारा के समान गति को कोई रोक नहीं सकता, वे गरुड़देव हमारा कल्याण करें। वेदवाणी के स्वामी बृहस्पति हमारा कल्याण करें। 

Mantra Translation – May Indra who is provided with great speed do well to us, May Pushan who is knower of world do good to us and May Tarkshya who devastates enemies do good to us! May Brihaspati, the Lord of the Vedic knowledge or speech give us spiritual delight got from the light of knowledge and wisdom. 

मन्त्र-७

पृषदश्वा मरुतः पृश्निमातरः शुभंयावानो विदथेषु जग्मयः।
अग्निजिह्वा मनवः सूरचक्षसो विश्वे नो देवा अवसा गमन्निह ॥
अर्थ – चितकबरे वर्ण के घोड़ों वाले, अदिति माता से उत्पन्न, सबका कल्याण करने वाले, यज्ञआलाओं में जाने वाले, अग्निरुपी जिह्वा वाले, सर्वज्ञ, सूर्यरुप नेत्र वाले मरुद्गण और विश्वेदेव देवता हविरुप अन्न को ग्रहण करने के लिये हमारे इस यज्ञ में आयें। 

Mantra Translation – The Maruts, sons of Prishni, with spotted steeds, of happy gait, frequenters of sacrifices, the Gods whose tongue is Agni, knowers, radiant as the Sun, May all come hither for our protection. 

मन्त्र-८

भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः।
स्थिरैरंगैस्तुष्टुवांसस्तनूभिर्व्यशेम देवहितं यदायुः ॥
अर्थ – हे यजमान के रक्षक देवताओं! हम दृढ अंगों वाले शरीर से पुत्र आदि के साथ मिलकर आपकी स्तुति करते हुए कानों से कल्याण की बातें सुनें, नेत्रों से कल्याणमयी वस्तुओं को देखें, देवताओं की उपासना-योग्य आयु को प्राप्त करें। 

Mantra Translation – Gods, May we with our ears listen to what is good, and with our eyes see what is good, ye Holy Ones. With firm limbs and bodies, May we extolling you attain the term of life appointed by the Gods. 

मन्त्र-९

शतमिन्नु शरदो अन्ति देवा यत्रा नश्चक्रा जरसं तनूनाम।
पुत्रासो यत्र पितरो भवन्ति मा नो मध्या रीरिषतायुर्गन्तोः ॥
अर्थ – हे देवताओं! आप सौ वर्ष की आयु-पर्यन्त हमारे समीप रहें, जिस आयु में हमारे शरीर को जरावस्था प्राप्त हो, जिस आयु में हमारे पुत्र पिता अर्थात् पुत्रवान् बन जाएँ, हमारी उस गमनशील आयु को आपलोग बीच में खण्डित न होने दें। 

Mantra Translation – A hundred autumns stand before us, O ye Gods, within whose space ye bring our bodies to decay; Within whose space our sons become fathers in turn. Break ye not in the midst our course of fleeting life. 

मन्त्र-१०

अदितिर्द्यौरदितिरन्तरिक्षमदितिर्माता स पिता स पुत्रः।
विश्वेदेवा अदितिः पंचजना अदितिर्जातमदितिर्जनित्वम॥
अर्थ – अखण्डित पराशक्ति स्वर्ग है, वही अन्तरिक्ष-रुप है, वही पराशक्ति माता-पिता और पुत्र भी है। समस्त देवता पराशक्ति के ही स्वरुप हैं, अन्त्यज सहित चारों वर्णों के सभी मनुष्य पराशक्तिमय हैं, जो उत्पन्न हो चुका है और जो उत्पन्न होगा, सब पराशक्ति के ही स्वरुप हैं। 

Mantra Translation – Aditi is the Heaven, Aditi is mid-air, Aditi is the Mother and the Father and Son. She is all the Gods, She is the five-classed men, Aditi is all that hath been born and shall be born. 

मन्त्र-११

ॐ द्यौ: शान्तिरन्तरिक्षँ शान्ति:, पृथ्वी शान्तिराप: शान्तिरोषधय: शान्ति:। 
वनस्पतय: शान्तिर्विश्वे देवा: शान्तिर्ब्रह्म शान्ति:, सर्वँ शान्ति:, शान्तिरेव शान्ति:, सा मा शान्तिरेधि॥ 
ॐ शान्ति: शान्ति: शान्ति:॥
अर्थ – द्युलोक शान्तिदायक हों, अन्तरिक्ष लोक शान्तिदायक हों, पृथ्वीलोक शान्तिदायक हों। जल, औषधियाँ और वनस्पतियाँ शान्तिदायक हों। सभी देवता, सृष्टि की सभी शक्तियाँ शान्तिदायक हों। ब्रह्म अर्थात महान परमेश्वर हमें शान्ति प्रदान करने वाले हों। उनका दिया हुआ ज्ञान, वेद शान्ति देने वाले हों। सम्पूर्ण चराचर जगत शान्ति पूर्ण हों अर्थात सब जगह शान्ति ही शान्ति हो। ऐसी शान्ति मुझे प्राप्त हो और वह सदा बढ़ती ही रहे। अभिप्राय यह है कि सृष्टि का कण-कण हमें शान्ति प्रदान करने वाला हो। समस्त पर्यावरण ही सुखद व शान्तिप्रद हो। 

Mantra Translation – May peace radiate there in the whole sky as well as in the vast ethereal space everywhere. May peace reign all over this earth, in water and in all herbs, trees and creepers. May peace flow over the whole universe. May peace be in the supreme being Brahman. And may there always exist in all peace and peace alone. 

स्वस्तिक मंत्र या स्वस्ति मन्त्र शुभ और शांति के लिए प्रयुक्त होता है। स्वस्ति = सु + अस्ति = कल्याण हो। ऐसा माना जाता है कि इससे हृदय और मन मिल जाते हैं। मंत्रोच्चार करते हुए दर्भ से जल के छींटे डाले जाते थे तथा यह माना जाता था कि यह जल पारस्परिक क्रोध और वैमनस्य को शांत कर रहा है। स्वस्ति मन्त्र का पाठ करने की क्रिया ‘स्वस्तिवाचन’ कहलाती है।

ॐ स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः।
स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः।
स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः।
स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॥
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥
 
गृहनिर्माण के समय स्वस्तिक मंत्र बोला जाता है। मकान की नींव में घी और दुग्ध छिड़का जाता था। ऐसा विश्वास है कि इससे गृहस्वामी को दुधारु गाएँ प्राप्त हेती हैं एवं गृहपत्नी वीर पुत्र उत्पन्न करती है। खेत में बीज डालते समय मंत्र बोला जाता था कि विद्युत् इस अन्न को क्षति न पहुँचाए, अन्न की विपुल उन्नति हो और फसल को कोई कीड़ा न लगे। पशुओं की समृद्धि के लिए भी स्वस्तिक मंत्र का प्रयोग होता था जिससे उनमें कोई रोग नहीं फैलता था। गायों को खूब संतानें होती थीं।
 
यात्रा के आरंभ में स्वस्तिक मंत्र बोला जाता था। इससे यात्रा सफल और सुरक्षित होती थी। मार्ग में हिंसक पशु या चोर और डाकू नहीं मिलते थे। व्यापार में लाभ होता था, अच्छे मौसम के लिए भी यह मंत्र जपा जाता था जिससे दिन और रात्रि सुखद हों, स्वास्थ्य लाभ हो तथा खेती को कोई हानि न हो।
 
पुत्रजन्म पर स्वस्तिक मंत्र बहुत आवश्यक माने जाते थे। इससे बच्चा स्वस्थ रहता था, उसकी आयु बढ़ती थी और उसमें शुभ गुणों का समावेश होता था। इसके अलावा भूत, पिशाच तथा रोग उसके पास नहीं आ सकते थे। षोडश संस्कारों में भी मंत्र का अंश कम नहीं है और यह सब स्वस्तिक मंत्र हैं जो शरीररक्षा के लिए तथा सुखप्राप्ति एवं आयुवृद्धि के लिए प्रयुक्त होते हैं।
 
*******************
Other Sacred Vedic Chants ( Sri Suktam, Shri Rudram, Purusha Suktam, Durga Suktam, Medha Suktam etc ) :
Sri Suktam from Rig Veda in the Soul Stirring Voice of Prakash Kaushik
Soul Stirring Vedic Chants ( Rudram ) of Prakash Kaushik – Part I
See the source image
Shri Prakash Kaushik

Soul Stirring Vedic Chants ( Rudram ) of Prakash Kaushik – Part II
Soul Stirring Vedic Chants ( Rudram ) of Prakash Kaushik

Diwali Laxmi Puja Rituals in Simple Steps

Rare Vedic Chants for Positive Energy

Spread India's Glorious Cultural & Spiritual Heritage

By Mala Chandrashekhar

Though academically trained in modern Western Sciences, Blogger Mala Chandrashekhar is a crazy maniac of India's ageless, timeless ethnic arts, crafts & textiles. The rich & glorious cultural & spiritual heritage of India is a subject extremely dear to her heart, and the whole of this Blog has been dedicated to spreading the immortal glories of ancient India worldwide, to every nook & corner of the globe, through these simple Blog-posts. Any constructive criticisms & suggestions in this regard for improvement of the Blog 'MOST WELCOME'. Also, High-Quality Guest Blog-posts 'MOST WELCOME". LinkedIn Profile : https://in.linkedin.com/in/mala-chandrashekhar-04095917a